भागवत कथा में हुआ रूकमणि विवाह-आंचलिक ख़बरें-रमेश कुमार पाण्डे

0
98

 

जिला कटनी – ढीमरखेड़ा क्षेत्र के ग्राम परसवारा में भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा हैं। आयोजन के छठवे दिन पंडित मनीष गर्ग द्वारा कृष्ण और रूकमणि विवाह की कथा का प्रसंग श्रोताओं को सुनाया गया। इस दौरान कृष्ण और रूकमणि की जीवंत झांकी प्रस्तुत की गई। मंच से कृष्ण और रूकमणि विवाह की कथा का बखान संगीत की लय में किया गया, जिससे भक्त झूम उठे। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे।श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ सप्ताह के छठे दिन कथा व्यास पंडित मनीष गर्ग शास्त्री जी महाराज ने बताया कि भगवान श्री कृष्ण ने बांसुरी बजाकर गोपियों का आह्वान किया। इस दौरान श्रीकृष्ण व रूकमणि के विवाह की झांकी ने सभी का मनमोहा। श्रद्धालुओं ने जमकर पुष्प वर्षा की। कथा व्यास ने भागवत कथा के महत्व को बताते हुए कहा कि जो भक्त प्रेमी कृष्ण- रूकमणि के विवाह उत्सव में शामिल होते है। उनकी वैवाहिक समस्या हमेशा के लिए समाप्त हो जाती है। कहा कि जीव परमात्मा का अंश है इसलिए जीव के अंदर अपार शक्ति रहती है। साथ ही साथ गुरु की महिमा के बारे में भी कथा व्यास मनीष गर्ग ने बताया कि जीवन में गुरु का होना बहुत जरूरी हैं क्योंकि गुरु अंधकार से प्रकाश की ओर लेकर जाता हैं। छोटी से छोटी गतिविधियों में गुरु का आशीर्वाद प्राप्त होता हैं जिससे मनुष्य भवसागर से पार हो जाता हैं। कथा में पंडित अभिषेक गर्ग की पूजन पाठ में विशेष उपस्थिति रही।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here