झाबुआ गौरव दिवस के उपलक्ष्य में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रंगारंग प्रस्तुती

News Desk
By News Desk
5 Min Read
maxresdefault 2

राजेंद्र राठौर

कलेक्टर श्रीमती सिंह भी आदिवासी नृत्य में शामिल

1 मार्च को झाबुआ उत्सव जो झाबुआ गौरव दिवस महोत्सव के रूप में उत्कृष्ट खेल मैदान पर आयोजित था। दोपहर 04ः00 बजे से राजवाडा चौक से आजाद चौक, बस स्टेशन होते हुये गौरव दिवस यात्रा उत्कृष्ट खेल मैदान पर पहुची। रैली के दौरान जगह- जगह सम्मान किया गया। रैली में बडी संख्या में लोग शामिल हुये थें। यहां पर यह आयोजन जिला प्रशासन झाबुआ एवं समस्त नागरिकगण के द्वारा संस्कृति के रंग झाबुआ उत्सव के संग के रूप में मनाया गया। इस आयोजन में कलेक्टर श्रीमती रजनी सिंह, पुलिस अधीक्षक अगम जैन, सीईओ जिला पंचायत अमन वैष्णव, माननीय सांसद गुमानसिंह डामोर, पूर्व विधायक शान्तिलाल बिलवाल, महामंत्री सोमसिंह सोलंकी, मण्डल अध्यक्ष अकुंर पाठक के द्वारा मॉ सरस्वती की मूर्ति पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलन किया। इस अवसर पर अतिथियों का पुष्पहार से जिला पंचायत के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी दिनेश वर्मा के द्वारा अभिनन्दन किया गया। झाबुआ गौरव दिवस के इस आयोजन में मध्यप्रदेश गान प्रस्तुत किया गया।

मध्यप्रदेश गान के पश्चात् कलेक्टर श्रीमती सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि मुख्य रूप से गौरव दिवस की मूल भावना यह है कि हम हमारे जिले की संस्कृति का उत्सव मनाये, हम उसको आत्मसात करे, उसके बारे में सोचे व उसको बढाने का प्रयास करे। सुबह से लेकर शाम तक जिन भी लोगों ने इसमें सहभागिता की बहुत अच्छा सहयोग मिला हमें उन सबका मै बहुत- बहुत स्वागत एवं अभिनन्दन करती हु एवं धन्यवाद भी करती हु। हम सब जानते है किसी भी शहर के लिये सफाई बहुत अधिक महत्वपूर्ण है। लगातार स्वच्छता के लिये काम भी होते रहते है और जो लोग ये कार्य करते है। हमारे स्वच्छता कर्मचारी है उनका सम्मान एवं स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।

सांसद गुमानसिंह डामोर ने कहा कि झाबुआ का गौरव दिवस मनाना हमारे लिए बहुत गर्व की बात है, हमारे जिले की संस्कृति की पहचान देश विदेश तक है। हमारा भगोरिया पर्व हर्ष और उल्लास का पर्व है, खुशी का पर्व है। भगोरिया का पर्व हमें यह सिखाता है कि हम चाहे कैसे भी अभाव में रहे कितने भी कष्टों मे रहे, कैसे भी स्थिती में हो फिर भी हम हमेशा खुश रहते है। आपने देखा होगा जो हमारे आदिवासी भाई-बहन है वो जीवन भर खुश रहता है, वो अभावों को नही देखता है। वो भाव को देखता है कि ईश्वर ने हमें क्या दिया है, उसी को लेकर खुश होता है।

इस अवसर पर जो लोकनृत्य प्रस्तुत किये गये उसमें प्रमुख रूप से कन्या महाविद्यालय छात्रावास की छात्राये, नवीन कन्या महाविद्यालय छात्रावास की छात्राएं, कर्मचारी पुत्री कन्या महाविद्यालय छात्रावास की छात्राए, शारदा विद्या मन्दिर उ.मा.वि. झाबुआ, केशव विद्यापीठ झाबुआ, छात्रावास की अधीक्षिकाओं का दल, कर्मचारी संगठन की महिलाओं का दल, अन्य एकल एवं सामुदायिक दल के द्वारा बेहतर प्रस्तुति दी गई। जिसे सभी ने मुक्त कंण्ठ से सराहना की। इस अवसर पर कलेक्टर श्रीमती सिंह भी आदिवासी नृत्य में शामिल हुई। झाबुआ गौरव दिवस बडे उल्लास एवं उमंग के साथ मनाया गया। सभी के द्वारा अपनी भागीदारी सुनिश्चित की गयी।

व्यापारी संघ के अध्यक्ष संजय काठी एवं सामाजिक कार्यकर्ता नीरज श्रीवास्तव, ग्रीनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल पुस्तक के सम्मान स्वरूप यंशवत भण्डारी, झाबुआ के वेट लीफटींग के लिये सुशील वाजपाई को झाबुआ के गौरव के रूप में पुष्पहार से एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। गौरव दिवस के उपलक्ष्य में फुटबॉल मैच के विजेता आजाद क्लब एवं शारदा विद्या मन्दिर के द्वारा प्रस्तुत आत्मरक्षा कराटे प्रशिक्षण की छात्राओ का मंच से मेडल देकर सम्मानित किया एवं इसके अतिरिक्त विभिन्न खेल प्रतिभावों को मेडल देकर सम्मानित किया गया।

आयोजन में कलेक्टर श्रीमती रजनी सिंह, पुलिस अधीक्षक अगम जैन, सीईओ जिला पंचायत अमन वैष्णव, पूर्व माननीय विधायक शान्तिलाल बिलवाल, महामंत्री सोमसिंह सोलंकी, मण्डल अध्यक्ष अकुंर पाठक के द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले दलों को प्रशस्ति पत्र एवं मेडल देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का सफल संचालन हरिष कुण्डल के द्वारा व्यक्त किया गया एवं आभार सहायक आयुक्त जनजातीय कार्यविभाग के द्वारा किया गया।

Share This Article
Leave a comment