सार्वजनिक के नाम पर निजी लाभ देना कदाचार-जाट-प्रदीप गढ़वाल

0
160

https://youtu.be/puNWUy33Z6Q

सार्वजनिक के नाम पर निजी लाभ देने का प्रयास कदाचार माना जायेगा।:- जाट

झुंझुनूं :- जिले की पंचायती राज संस्थाओं के तकनीकी अधिकारियों की बैठक जिला परिषद सभागार में मंगलवार को मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामनिवास जाट की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में जाट ने सभी तकनीकी अधिकारियों को सावचेत किया कि सिविल कार्य पूर्ण होने के तीस दिन के भीतर यदि मूल्यांकन नही किया जाता है तो इस अवधि के बाद उससे ऊपर की श्रेणी के अधिकारी को ही मूल्यांकन का अधिकार होगा। निर्धारित अवधि में निरीक्षण तथा मूल्यांकन नही करने वाले अधिकारी की जिम्मेदारी निर्धारित की जायेगी। सीईओ ने कहा कि कार्यों का तकमीना तैयार करते समय भूमि का स्वामित्व, रास्ते की उपलब्धता, जनोपयोगिता, तथा पूर्व में हुये कार्यों की स्थिति को छुपाकर सरकारी धन से निजी लाभ के कामों की भूमिका तैयार करने वाले तकनीकी अधिकारी सरकारी धन का दुरुपयोग करने के लिये आरोपित किये जायेंगे। बैठक में दो साल से अधिक नरेगा में मेट के रूप में काम करने वाले दसवीं तक पढ़े हुये व्यक्तियों को बेयर फुट तकनीशियन के रूप में नियुक्त हेतु पात्र मेटों की चिन्हित करने के निर्देश दिये गये। बैठक में अधिशासी अभियंता विजेंद्र ढाका सहित सभी ब्लॉक् के सहायक अभियंता,

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here