Chitrakoot News: उत्तर प्रदेश में नहीं सुरक्षित है मंदिर, डकैतों का 10 दिन में दो बार हमला

Aanchalik khabre
By Aanchalik khabre
6 Min Read
Chitrakoot News: उत्तर प्रदेश में नहीं सुरक्षित है मंदिर, डकैतों का 10 दिन में दो बार हमला
Chitrakoot News: देवांगना स्थित पंपापुर हनुमानगढ़ी आश्रम में रविवार  की  रात्रि  में एक बार फिर चोरों ने  धावा बोल दिया लेकिन पुजारी रामकृष्ण दास की सक्रियता भांप डकैत भाग खड़े हुए, इस प्रकार घटना होते होते बची। डकैतों द्वारा बार-बार ऐसी घटना करने पीछे ऐसा  लग रहा है कि वह आश्रम में रह रहे तपस्वी संत प्रेम दास जी और पुजारी रामकृष्ण दास को किसी तरह वहां से हटाना चाहते हैं क्योंकि पिछले एक मार्च को डकैतों ने सारा सामान लूटपाट कर ले गए थे अब वहां कुछ बचा नहीं सिर्फ पुजारी रह रहे हैं ।
Chitrakoot News: उत्तर प्रदेश में नहीं सुरक्षित है मंदिर, डकैतों का 10 दिन में दो बार हमला
अंदाजा लगाया जा रहा है कि कोई संत महंत या फिर और कोई पंपापुर आश्रम में कब्जा करने की नियति से बार-बार ऐसी घटना करा रहे हैं। पंपापुर हनुमानगढी के संत प्रेमदास जी महाराज व पुजारी को किसी न किसी रूप में हटाना चाहते हैं। यह इस तरह की पांचवीं  घटना बताई जा रही है। कुछ वर्षों पहले तो डकैतों ने संत प्रेमदास जी महाराज को धारदार हथियारों से जमकर पीटा था, हाथ पैर पर वार किए थे|

Chitrakoot के संत महंतों ने संतों और आश्रम की सुरक्षा को लेकर धरना प्रदर्शन किया

इस घटना से आक्रोशित Chitrakoot के संत महंतों ने कामतानाथ मंदिर के संत मदन गोपाल दास जी महाराज के नेतृत्व में संतों और आश्रम की सुरक्षा को लेकर धरना प्रदर्शन किया था तब वहां सुरक्षा के लिए पीएसी की कंपनी लगाई गई थी लेकिन कुछ दिनों के बाद चुनाव आया और वहां से पुलिस हटा ली गई तब से आज तक पुलिस की सुरक्षा वहां पर नहीं है और डकैत लगातार घटना कर रहे हैं।
Chitrakoot News: उत्तर प्रदेश में नहीं सुरक्षित है मंदिर, डकैतों का 10 दिन में दो बार हमला
अभी पुलिस इस घटना को हल्के में ले रही जब घटना हो जाएगी फिर तरह-तरह के इंतजाम के बारे में पुलिस की बयानबाजी होगी जैसे कि Chitrakoot इंटर कॉलेज कर्वी में बुन्देलखण्ड महोत्सव के दौरान पिछले दिनों सुरक्षा की चूक के कारण ही चार बच्चों की मौत हो गई जिस पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई, पूरा जिला पुलिस प्रशासन को कोस रहा है ।
साहब यह जानता है सब जानती है पर मजबूर है कुछ कर नहीं सकती क्योंकि शासन प्रशासन के हाथ में अधिकार है जनता तो सिर्फ बोल सकती है। यदि आश्रम में सुरक्षा की व्यवस्था न की गई तो कभी भी वहां संत और उनके शिष्य की जान माल को खतरा से इनकार नहीं किया जा सकता।

जनपद Chitrakoot में अब देवस्थान नहीं सुरक्षित

बार-बार ऐसी घटना होने से अब तो वहां भक्तजन भी जाने से भयभीत होंगे। आश्चर्य की बात है कि एक मार्च को उसी स्थान से अज्ञात चोर हनुमान जी की आंखें,गदा, मुकुट और अन्य सामग्री चोरी कर ले गए। बाबा रणछोड़ दास की तपोस्थली प्राचीन पंपापुर आश्रम  में चोरी से श्रद्धालुओं में आक्रोश है। लोगों का कहना है कि Chitrakoot एयरपोर्ट के पास स्थित इस मंदिर में चोरी होना पुलिस चौकसी पर सवालिया निशान लगाता है। देवस्थान सुरक्षित नहीं हैं तो जनपद चित्रकूट में अब पुलिस के  मत्थे क्या सुरक्षित रहेगा यह विचारणीय प्रश्न है।
गौरतलब है कि एयरपोर्ट के पास पंपापुर आश्रम एक गुफा के अंदर हनुमान जी विराजमान हैं । यहां महंत प्रेमदास तपशाली और उनका एक शिष्य  रामकृष्ण दास ही रहते हैं। विगत 1 मार्च गुरुवार की रात चोरों ने यहां धावा बोला और हनुमान जी की आंखें , गदा, मुकुट,  पैर के आभूषण और अन्य सामान के साथ चढ़ावा चुरा ले गए। चोरों ने लोहे के दरवाजे को टेढ़ा कर दिया था। सुबह बाबाजी की नींद खुली तो वह सन्न रह गए।
चोरी के संबंध में लोगों ने बहिलपुरवा पुलिस को सूचना दी। इस पर पुलिस पहुंची तो थी लेकिन सुरक्षा का कोई स्थाई समाधान नहीं किया गया और एक बार फिर उस समय डकैत वहां धावा बोले जब Chitrakoot देवांगना एयरपोर्ट का भव्य  लोकार्पण हुआ और उसी रात डकैत भी पंपापुर आश्रम में धाबा बोल दिया। आश्रम के ऊपर देवांगना घाटी पर  पास में ही हवाई पट्टी होने के बाद भी बार बार चोरी की घटना होना  पुलिस को चुनौती ही तो कहीं जाएगी।
पुजारी रामकृष्ण दास ने  बताया कि इसके पूर्व भी लगभग डेढ़ साल पहले यहां चोरी हुई थी। वहां  पर तपस्यारत बाबा पूरी तरह से सामाजिक जीवन से विरक्त हैं और वह चोरी  की घटना की रिपोर्ट आदि भी नहीं दर्ज कराते। बताया कि जब यहां जंगलों में डकैतों की चहलकदमी थी तो पीएसी की टुकड़ी रहती थी पर अब सुरक्षा के नाम पर कुछ नहीं है। श्रद्धालुओं ने मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था कराने की मांग की है।
Pramod Mishra from Chitrakoot
Visit Our Social Media Pages
Share This Article
Leave a comment